सुपर मून, पूर्ण चंद्र ग्रहण के साथ विदा हो रही जनवरी , अभी अच्छे दिन नहीं आने वाले

Is showing a savage Khilji the real distortion in Padmaavat?
January 28, 2018
सरकार, व्यापार, बाजार पर भारी पड़ेगा चंद्र ग्रहण,महंगाई और लोगों की नाराज़गी बढ़ेगी  
January 30, 2018

सुपर मून, पूर्ण चंद्र ग्रहण के साथ विदा हो रही जनवरी , अभी अच्छे दिन नहीं आने वाले

2018 की जनवरी साल के पहले चंद्र ग्रहण के साथ ख़त्म हो रही है. 31  जनवरी को पड़ने वाला चंद्र ग्रहण पूर्ण चंद्र ग्रहण है . यह पूरे भारत में  दिखाई देगा .

 31  जनवरी को पूर्णिमा है .

इस बार बुधवार को पड़ने वाले इस ग्रहण के दिन सुपर मून होगा – यानी चन्द्रमा पृथ्वी के सबसे नज़दीक होगा, उसका आकार बड़ा दिखाई देगा और वो ज़्यादा चमकदार दिखाई देगा. ग्रहण काल में गहरा लाल दिखयी देगा इसलिए इसे ब्लड मून भी कहा जा सकता है.

यह जनवरी महीने की दूसरी पूर्णिमा है जिसे पश्चिमी देशों में ब्लू मून भी कहा जाता है. इसलिए इस बार का यह चंद्र ग्रहण कुछ ख़ास है जिसे देखने का इंतज़ार खगोलशास्त्रियों और ज्योतिषियों को तो है ही, आम लोगों में भी इसे लेकर काफी उत्सुकता है.

 हो भी क्यों न- ये थ्री इन वन जो है. यानी चन्द्रमा एक – नाम तीन- सुपर मून, ब्लू मून, और ब्लड मून.

ज्योतिष के अनुसार यह चंद्र ग्रहण पुष्य नक्षत्र में शुरू होगा और ख़त्म होगा अश्लेषा नक्षत्र में. भारतीय समय के मुताबिक ग्रहण शाम 5 बजकर 18  मिनट  पर शुरू होगा. शाम 7  बजे इसका मध्य काल होगा जिसे पूर्ण ग्रहण का समय भी कह सकते हैं. रात 8 बजकर 42  मिनट पर ग्रहण ख़त्म हो जायेगा.

सूर्यास्त के समय शुरू होने वाला यह ग्रहण दिल्ली और देश के बाकी हिस्सों में भी देखा जा सकेगा. लेकिन धार्मिक मान्यताओं और परम्पराओं के हिसाब से ग्रहण के समय चंद्र दर्शन और देव दर्शन वो वर्जित माना गया है. यहाँ तक कि ग्रहण शुरू होने से चार पहर यानी 12 घंटे पहले से सूतक लग जाता है जिसमें कोई भी शुभ काम नहीं किया जाता. बहुत से लोग तो खाना पकाने और खाने से भी परहेज़ करते हैं.

वैज्ञानिक दृष्टि से चंद्र ग्रहण को नंगी आँखों से यानी बगैर कोई चश्मा लगाए देखा जा सकता है. किसी भी साल में ज़्यादा से ज़्यादा दो-तीन चंद्र ग्रहण ऐसे हो सकते हैं जो ग्रहण काल के अनुरूप विश्व के कुछ हिस्सों में दर्शनीय हो सकते हैं. इस बार का ग्रहण एशिया, ऑस्ट्रेलिया , उत्तरी अमेरिका, उत्तर पूर्वी अफ्रीका के साथ साथ प्रशांत महासागर, हिन्द महासागर , अटलांटिक , आर्कटिक और अंटार्कटिक क्षेत्र में भी देखा जा सकेगा.

दिलचस्प बात यह है कि इस पूर्ण चंद्रग्रहण के एक पखवाड़े यानी 15  दिनों बाद ही सूर्य ग्रहण भी पड़ने वाला है. हालंकि वैलेंटाइन डे पर इस ग्रहण का साया नहीं पड़ेगा. लेकिन जल्दी जल्दी पड़ने वाले दो-दो ग्रहणों की वजह से फिलहाल अच्छे दिनों की उम्मीद और भी कम हो गयी है.

xϿ*

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *